chessbase india logo

क्या नॉकआउट फॉर्मेट है हरिकृष्णा की मुश्किल ?

by Niklesh Jain - 09/11/2019

जर्मनी के हॅम्बर्ग मेन भारत के पेंटाला हरिकृष्णा फीडे ग्रां प्री शतरंज के पहले दौर में रूस के पीटर स्वीडलर से 1.5-0.5 से हारकर प्रतियोगिता से बाहर हो गए है और इसके साथ ही यह भी साफ हो गया है की आने वाली फीडे कैंडीडेट में कोई भी भारतीय खिलाड़ी नहीं होगा । पहले राउंड में खेले गए दो मुकाबलो में पहला तो हरिकृष्णा पीटर स्वीडलर से हार गए थे और ऐसे में नॉक आउट आधार पर हो रहे दूसरे मुक़ाबले में प्रतियोगिता में बने रहने के लिए उन्हे हार हाल में जीत की जरूरत थी पर मुक़ाबला ड्रॉ रहा । हरिकृष्णा के लिए यह हार बेहद निराशाजनक रही क्यूंकी एक बार फिर फीडे विश्व कप और फीडे ग्रांड प्रिक्स से उन्हे लगातार निराशा का सामना करना पड़ा है और कंही ना कंही वह नॉक आउट फॉर्मेट का दबाव नहीं झेल पा रहे है । पढे यह लेख  

पहले मैच में हार के बाद हरिकृष्णा के सामने दूसरे मैच में जीतने की चुनौती थी पर सफ़ेद मोहरो से खेलते हुए बहुत कोशिशों के बाद भी वह ड्रॉ से ज्यादा हासिल नहीं कर सके और अनुभवी पीटर स्वीडलर नें हरिकृष्णा को फीडे ग्रां प्री से बाहर कर दिया 

आपको बता दे की पिछले ग्रां प्री में हरिकृष्णा वेसली सो के हाथो हारकर दूसरे राउंड में नहीं पहुँच पाये थे

यहाँ पर यह बात बिलकुल साफ है की हरिकृष्णा इन नॉक आउट फॉर्मेट में अपनी नैसर्गिक शतरंज नहीं खेल पा रहे है 

फीडे विश्व कप में भी पिछले तीन बार से वह इस फॉर्मेट में उलझ जा रहे है 

 

 

जबकि ओपन टूर्नामेंट में वह डिंग लीरेन जैसे दिग्गज को भी पीछे छोड़ आगे निकल जाते है मतलब यहाँ बात उनकी प्रतिभा की नहीं है बल्कि इस फॉर्मेट में खुद को मानसिक तौर पर मजबूत करने की है ,उम्मीद है वह जरूर वापसी करेंगे । 

 

बात करे फीडे ग्रां प्री की फिलहाल जो स्थिति है उसके अनुसार बुल्गारिया के वेसेलीन टोपालोव फ्रांस के मेक्सिम लाग्रेव से ,रूस के अलेक्ज़ेंडर ग्रीसचुक चेक गणराज्य के डेविड नवारा से ,रूस के डेनियल डुबोव हमवतन पीटर स्वीडलर से तो चीन के यू यांगी पोलैंड के जान डुड़ा से सेमी फ़ाइनल में पहुँचने की जंग लड़ रहे है !फीडे ग्रां प्री के मुकाबलो पर हमारी विस्तृत रिपोर्ट जल्द ही